सोयबीन की बेस्ट 8 किस्म और इन राज्य के लिए है उपयुक्त जाने पूरी डिटेल

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
1.2/5 - (5 votes)
2024 Soybean Top Kism In Hindi

2024 सोयाबीन टॉप किस्म इन हिंदी (2024 Soybean Top Kism In Hindi) : हमारे देश भारत में सोयाबीन की खेती कुछ राज्य में अधिक होती है। जैसे की मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना, गुजरात, राजस्थान, आंध्र प्रदेश और उत्तरी पूर्वी विस्तार में सोयाबीन की खेती अधिक किसान करते है।

सोयाबीन एक ऐसी फसल है जो दलहनी और तिलहनी दो नो में गिना जाता है। इन का इस्तेमाल खाद्य तेल, सोया पनीर, सोया बड़ी, और सोया दूध में किया जाता है। सोयाबीन की उन्नत किस्म के बीज की बुवाई अब कुछ ही दिनों में शुरू हो जाएगी इन के बीज जून महीने के 15 दिन बाद किसान मुख्य खेत में बुवाई करना शुरू कर देते है।

सोयाबीन की खेती में किसान को बीज बुवाई से पहले कृषि वैज्ञानिकों की सलाह ले और जो इन्होने बताई है इन सोयाबीज की बुवाई करेंगे तो उत्पादन अधिक मिलेगा और किसान को अच्छी कमाई भी होगी आज इस ikhedutputra.Com के इस आर्टिकल के माध्यम से हम जानेगे की किस राज्य में सोयाबीन की वैरायटी अच्छा उत्पादन देने वाली है।

2024 सोयाबीन टॉप किस्म इन हिंदी (2024 Soybean Top Kism In Hindi)

हमारे कृषि वैज्ञानिकों ने सोयाबीन की इस टॉप 8 किस्म को इन राज्य के लिए अधिक उपयुक्त बताई है और इन से किसान को अच्छा उत्पादन और अधिक मुनाफा होगा।

सोयाबीन वैराइटी नाम राज्य का नाम एक हैक्टर में पैदावार कब बुवाई करना है
जेएस 2069 किस्ममध्य विस्तार 22 से 26 क्विंटल15 से 22 जून महीने में
फुले संगम/केडीएस 726 किस्ममहाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश40 क्विंटल15 जून से 25 जुलाई महीने में
प्रताप सोया-1 (आरएयूएस 5) किस्मउत्तरी-पूर्वी विस्तार 30 से 35 क्विंटल15 से 30 जून महीने में
एमएयूएस 81 (शक्ति) किस्ममध्य विस्तार 33 से 35 क्विंटल15 से 30 जून महीने में
एमएसीएस 1407 किस्मछत्तीसगढ़, असम, झारखंड, पश्चिम बंगाल, और पूर्वोत्तर राज्य39 क्विंटल20 जून से 5 जुलाई महीने में
जेएस 9560 किस्ममध्य विस्तार 25 से 28 क्विंटल17 से 25 जून महीने में
बीएस 6124 किस्ममध्यप्रदेश20 से 25 क्विंटल15 जून से 30 जून महीने में
जेएस 2034 किस्ममध्यप्रदेश24 से 25 क्विंटल15 जून से 30 जून महीने में
सोयाबीन की खेती एक बारिश पर आधारित खेती है। इन की खेती का उचित समय 20 जून से 5 जुलाई तक की जाती है।

सोयाबीन की खेत तैयारी

किसान हर साल खरीफ मौसम में सोयाबीन की खेती करते है इन किसान को तीन साल बाद अच्छे से गहरी जुताई करनी चाहिए। और एक हैक्टर के हिसाब से 10 से 12 टन अच्छे से सड़ी गोबर की खाद और 2 से 3 टन मुर्गी खाद डालनी है इन के बाद रोटावेटर की मदद से मिट्टी में अच्छे से मिला दे इन से मिट्टी की उपजाव शक्ति बढ़ती है और उत्पादन अधिक प्राप्त होता है।

सोयाबीन एक हैक्टर में बीज दर

किसान सोयाबीन की खेती एक हैक्टर जमीन में करना चाहते है तो 70 से 75 किलोग्राम बीज की जरूरत होती है। और सोयाबीन के उन्नत किस्म के बीज को बुवाई करने से पहले इन्हे थीरम या कार्बेन्डाजिम से उपचारित जरूर करें। इन के बीज की बुवाई कतार में की जाती है और कतार से कतार की दुरी 35 से लेकर 45 सैमी की रखनी है और पौधे से पौधे की दुरी 4 से 5 सैमी की रखी जाती है।

सोयाबीन की उन्नत किस्म का चयन कैसे करें

सोयाबीन की खेती में किसान एक साल में दो फसल करनी है तो सोयाबीन की इस माध्यम या तो अधिक समय में अच्छे से पक के तैयार हो जाने वाली और अधिक उत्पादन देने वाली सोयाबीन की किस्म का चयन करें। और जो किसान को सोयाबीन के उपज प्राप्त हो जाने के बाद प्याज, लहसुन, चना, आलू आदि फसल की खेती करनी है तो आप को कम समय में पक के तैयार हो जाने वाली किस्म का चयन करना है।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को 2024 सोयाबीन टॉप किस्म इन हिंदी (2024 Soybean Top Kism In Hindi) इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

नमस्कार किसान मित्रो, में Mavji Shekh आपका “iKhedutPutra” ब्लॉग पर तहेदिल से स्वागत करता हूँ। मैं अपने बारे में बताऊ तो मैंने अपना ग्रेजुएशन B.SC Agri में जूनागढ़ गुजरात से पूरा किया है। फ़िलहाल में अपना काम फार्मिंग के साथ साथ एग्रीकल्चर ब्लॉग पर किसानो को हेल्पफुल कंटेंट लिखता हु।

Leave a Comment