लक्ष्मी सीड्स ने लांच किया एक नया बेहतरीन मक्का हाइब्रिड बीज – लक्ष्मी विजेता 8442

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
4.3/5 - (7 votes)
Makka Ki Achhi Kisme Kaun Si Hai

लक्ष्मी विजेता 8442 बीज के लिए आप निचे दिए गए नंबर पर कॉल करे।

+91 91000 85795

मक्का की अच्छी किस्म कौन सी है? (Makka Ki Achhi Kisme Kaun Si Hai) : लक्ष्मी सीड्स फिछले 28 वर्षों से भारत की एक अग्रणी कंपनी है जो किसानो को एक से बढ़कर एक हाइब्रिड देते आ रहे है। आज के बदलते परिवेश में किसान की मुख्य आय का स्रोत आधुनिक नए हाइब्रिड के बीज है जो किसान भाइयों को कम लगत में अधिक पैदावार दे कर उनके प्रॉफिट को बढ़ा सकते है। इस क्रम में मक्का एक महत्त्वपूर्ण फसल है। मक्का अनाजों की रानी है, जो कि अनाज के साथ-साथ, औधोगिकी कच्चे माल का महत्वपूर्ण स्रोत है, जैसे इथेनॉल उत्पादन, जानवरों का चारा, मुर्गी का चारा, स्टार्च और कई अन्य औद्योगिक उपयोग, जिसके कारण मक्का की डिमांड प्रतिवर्ष बढ़ती जा रही है।

एक अनुमान के अनुसार, भारत ने 2023-24 में 34.6 मिलियन टन (एमटी) मक्का का उत्पादन किया और लागत प्रभावी और टिकाऊ तरीके से कम से कम समय में आपूर्ति-मांग के अंतर को पूरा करने के लिए मक्का उत्पादन को दोगुना करने की क्षमता है।

भारत ने हाल ही में राष्ट्रीय जैव ईंधन नीति (एनपीबी) 2018 के तहत मक्का और अनाज आधारित इथेनॉल के मिश्रण की अनुमति देने के लिए एक नई नीति प्रतिमान शुरू किया है। इसके अलावा, इथेनॉल पेट्रोल के मिश्रण का लक्ष्य 2013 में केवल 1.53 प्रतिशत से कई गुना बढ़ गया है, 2021-22 में 10 प्रतिशत, 2022-23 में 12.1 प्रतिशत सम्मिश्रण और 2024-25 तक 20 प्रतिशत और 2029-30 तक 30 प्रतिशत सम्मिश्रण का लक्ष्य हासिल करने की उम्मीद है।

मक्का भावी पीढ़ियों के लिए एक अवसर की फसल है, क्योंकि अभी तक इथेनॉल का उत्तपादन ज्यादातर गन्ने के जूस व चावल से किया जाता है । इथेनॉल के बढ़ते डिमांड की पूर्ति के लिए धान व गन्ने की खेती पर आधारित नहीं रह सकते क्योंकि यह फसले अधिक पानी आधारित है, जिसके कारण लगातार जल स्तर में कम हो रहा है, परिणामस्वरूप संकटग्रस्त आर्थिक और पारिस्थितिक स्थितियाँ पैदा हो रही हैं। इसके बेहतर समाधान के लिए अधिक उपज देने वाली मक्का की आधुनिक हाइब्रिड के शुरूआत के साथ, मक्का की खेती अधिक लाभकारी हो गई है।

इस परिस्थिति की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम उठाते हुए, कृषि क्षेत्र की अग्रणी कंपनी, आशा एग्रीसाइंसेज प्राइवेट लिमिटेड जिसे “लक्ष्मी सीड्स” के नाम से जाना जाता है ने, नई और आधुनिक हाइब्रिड “लक्ष्मी विजेता-8442”, एक अभूतपूर्व मक्का लॉन्च किया है, जो कृषि पद्धतियों में क्रांतिकारी बदलाव लाने और किसानों के लिए रिटर्न बढ़ाने के लिए तैयार है। अपनी असाधारण विशेषताओं और मजबूत बाजार मांग के साथ, लक्ष्मी विजेता मक्का की खेती के क्षेत्र में एक गेम-चेंजर के रूप में उभरी है।

लक्ष्मी विजेता-8442 की मुख्य विशेषताएं

01 उच्च उपज क्षमता:
“लक्ष्मी विजेता-8442” अपनी असाधारण उपज क्षमता के लिए जाना जाता है, जो अन्य हाइब्रिड के मानकों से अधिक भरपूर उत्तपादन देता है। इस हाइब्रिड को अपनाने वाले किसान अधिक उत्त्पादन ले कर गौरवान्वित और अधिक प्रॉफिट कमा सकते है।

02 विशिष्ट नारंगी रंग के दाने :
लक्ष्मी विजेता-8442 की एक खास विशेषता इसके आकर्षक नारंगी रंग के दाने हैं, जो न केवल दृश्य अपील बल्कि पोषण संबंधी समृद्धि को भी दर्शाते हैं। यह अनूठी विशेषता उपभोक्ता का ध्यान आकर्षित करती है और बाजार में किसान को अच्छा भाव मिलेगा, जिससे किसानों को अधिक रिटर्न मिलेगा ।

03 मध्यम ऊंचाई के पौधे :
लक्ष्मी विजेता-8442 एक मजबूत पौधे की संरचना व मध्यम ऊंचाई की विशेषता का मालिक है। यह विशेषता प्रतिकूल मौसम की स्थिति में भी पौधों को लचीलापन सुनिश्चित करती है जो पौधों को गिरने के प्रति सहनशील बनाती है, और साथ ही कृषि प्रबंधन में आसानी होती है। जिससे किसान अपने कृषि लागत को कम करते है और प्रॉफिट का फायदा उठाते है ।

04 ज्यादा छिलाई प्रतिशत:
ज्यादा शेलिंग (छिलाई) प्रतिशत मतलब प्रति भुट्टे ज्यादा दाने के साथ, लक्ष्मी विजेता-8442 को अन्य हाइब्रिड की तुलना में उत्तम बनता है। पतली बलड़ी के साथ उत्तपादन में बढ़ोत्तरी होती है, जिससे किसानों और उपभोक्ताओं के बीच इसके बाजार मूल्य और मांग में वृद्धि होती है।

05 “पहले दिन से विजेता”:
पिछले वर्ष दिए गए डेमो के अनुसार सभी क्षेत्रों के किसानों ने इसके अद्वितीय प्रदर्शन और विश्वसनीयता को पहचानते हुए, लक्ष्मी विजेता-8442 को उत्साह के साथ अपनाया है। किसानों द्वारा इसे “पहले दिन से विजेता” माना गया है, यह हाइब्रिड तेजी से खेती की सफलता और समृद्धि का पर्याय बनेगा।

लक्ष्मी बीज: अग्रणी कृषि उत्कृष्टता

आशा एग्रीसाइंसेज प्राइवेट लिमिटेड जिसे “लक्ष्मी सीड्स” के नाम से जाना जाता है कृषि के क्षेत्र में एक विश्वसनीय नाम है, जो 28 वर्षों से अधिक समय से नवाचार व किसानो की ज़रूरत को समझने में सबसे आगे रहा है। जिसके परिणामस्वरूप अपने अनूठे अनुसंधान और विकास के प्रति दृढ़ प्रतिबद्धता के साथ, लक्ष्मी सीड्स ने किसानों को अधिकतम लाभ और लाभप्रदता सुनिश्चित करते हुए बेहतर गुणवत्ता वाले हाइब्रिड उपलब्ध कराने के लिए लगातार प्रयास किया है।

औरंगाबाद महाराष्ट्र से अरुण भाउसाहेब अहीर, संतोष भोसले, रमेश फारकेडे, छिंदवाड़ा मध्य प्रदेश से – कैलाश बांधे, अशोक, लक्ष्मीचंद चौरसिया,अंकित लोखंडे, बूंदी राजस्थान से राकेश सिंह, सावंत सिंह, झालावर राजस्थान रामविलाश भील, बापूलाल तनवर जैसे कई किसान भाइयों ने लक्ष्मी विजेता-8442 को पिछले वर्ष अपने खेत में लगाया और लक्ष्मी विजेता-8442 के नारंगी रंग के चमकदार दानों और अधिक उत्त्पादन से मक्के की खेती से बम्पर फायदा उठाया और उनको देख कर कई किसान भाई इस वर्ष लक्ष्मी विजेता-8442 को अपने खेत में लगाने जा रहे है।

Mr. C Sudhakar Chintala, आशा एग्रीसाइंसेज प्राइवेट लिमिटेड के प्रधान वैज्ञानिक, और उनकी टीम ने 6-7 वर्षों के कठिन प्रयासों के बाद लक्ष्मी विजेता-8442 को तैयार किया है और उनके अनुसार यह हाइब्रिड मक्का पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, और कर्नाटक जैसे राज्यों के लिए खरीफ सीजन के लिए अनुकूल है। लक्ष्मी विजेता मध्यम से उच्च उपजाऊ वाले भूमि में सफलतापूर्वक लगाया जा सकता है। लक्ष्मी विजेता नारंगी चमकदार दाने अधिक छिलाई प्रतिशत वाली अनूठी विशेषताओं के साथ अन्य हाइब्रिड मक्के की तुलना में यह अधिक पैदावार प्रदान करता है।

डॉ रवीन्द्र प्रकाश पांडेय, ने बताया की, “लक्ष्मी विजेता-8442 कई वर्षों के समर्पित अनुसंधान और आधुनिक प्रजनन प्रयासों की परिणति का प्रतिनिधित्व करता है। इसका असाधारण प्रदर्शन, इसकी अनूठी विशेषताओं के साथ मिलकर, लक्ष्मी विजेता हाइब्रिड मक्का को बाजार में अग्रणी के रूप में पेश करता है, जो किसान भाइयों की सफलता और समृद्धि का एक मार्ग हैं।”

Dr. Krishan Chaudhary कंपनी के बिजनेस हेड ने यह संदेश दिया कि लक्ष्मी विजेता-8442 मक्के के खेती में एक नई खोज है। जिसे महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश और तेलंगाना के विक्रेता बंधुओं और किसान भाईयों के साथ लॉन्च किया गया है। उन्होंने बताया की इस वर्ष लक्ष्मी विजेता-8442 को सभी महत्वपूर्ण मार्केट में बिजाई के लिए उपलब्ध करवा दिया गया है। उनके अनुसार एक बहुत शानदार उत्त्पाद सिद्ध होगा। लक्ष्मी विजेता-8442 अच्छे प्रबंधन में सबसे अधिक उत्त्पादन देने की क्षमता रखता है और सामान्य परिस्थिति में भी किसानो के लिए अधिक फायदे की खेती सिद्ध होगी।

लक्ष्मी विजेता-8442 भारत के मक्का किसान भाइयों को अधिक उपज देने वाली, मजबूत पौध सरचना, उच्च छिलाई प्रतिशत, उत्पादकता बढ़ाने, आजीविका में सुधार करने और आधुनिक कृषि की जटिलताओं को आत्मविश्वास के साथ पार करने में सक्षम बनाती है।

अपनी उच्च उपज क्षमता, विशिष्ट विशेषताओं और मजबूत बाजार मांग के साथ, लक्ष्मी विजेता-8442 कृषि उन्नति की भावना का उदाहरण है, जो किसानों को सफलता और समृद्धि की नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने के लिए सशक्त बनाता है।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को हाइब्रिड मक्का की अच्छी किस्म कौन सी है? (Makka Ki Achhi Kisme Kaun Si Hai)  इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

नमस्कार किसान मित्रो, में Mavji Shekh आपका “iKhedutPutra” ब्लॉग पर तहेदिल से स्वागत करता हूँ। मैं अपने बारे में बताऊ तो मैंने अपना ग्रेजुएशन B.SC Agri में जूनागढ़ गुजरात से पूरा किया है। फ़िलहाल में अपना काम फार्मिंग के साथ साथ एग्रीकल्चर ब्लॉग पर किसानो को हेल्पफुल कंटेंट लिखता हु।

6 thoughts on “लक्ष्मी सीड्स ने लांच किया एक नया बेहतरीन मक्का हाइब्रिड बीज – लक्ष्मी विजेता 8442”

  1. लक्ष्मी विजेता दाण्यांचा आकर्षक रग बारीक बीटी वजनाला चांगला म्हणून तर आहे लक्ष्मी विजेता संपूर्ण गोष्टीमध्ये विजेता

    Reply

Leave a Comment