एक नहीं अन्य रोग और बीमारी के लिए रामबाण इलाज

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
2/5 - (1 vote)
Kakoda Ka Beej Kaha Milta Hai

ककोड़ा का बीज कहां मिलता है? (Kakoda Ka Beej Kaha Milta Hai) : वर्त्तमान समय में सिर्फ जमीन वाले किसान ही सब्जी उगा शकते है ऐसा नहीं है। पर आप अपने घर पर ही कुछ सब्जियां आंगन में बालकनी में और छत पर बड़ी आसानी से ऊगा शकते है और इन का इस्तेमाल सब्जी बना के ले शकते है।

छत पर विविध सब्जी ऊगा के आप कुछ रकम की बचत और सेहत के लिए हेल्प फूल सब्जी का आनंद ले शकते है। कुछ ऐसी सब्जी है जो घर के छत पर किसी ग्रो बैंग में या तो मिट्टी के घड़े में भी ऊगा शकते है। ऐसा नहीं है की सब्जी उगाने के लिए जमीन की जरूरत होती है। डिमांड वाली सब्जी आप छत पर लगा के अधिक पैदावार प्राप्त होने पर बाजार में बेचकर कमाई भी कर शकते है।

आज के इस ikhedutputra.Com के इस आर्टिकल में हम जानेंगे की ककोड़ा का बीज कहां मिलता है? (Kakoda Ka Beej Kaha Milta Hai) और इन्हे छत पर कैसे लगा नई है इन सभी बाते पर विस्तार से जानकारी प्राप्त करेंगे इस लिए आप हमारे साथ इस आर्टिकल के अंत तक बने रहे।

ककोड़ा का बीज कहां मिलता है? (Kakoda Ka Beej Kaha Milta Hai)

अगर आप ककोड़ा के उन्नत किस्म के बीज अपने घर पर ही प्राप्त करना चाहते है तो आप को मिल जाएगा। इन के लिए आप को इन स्टेप को फॉलो करना है। जो नीचे की तरह है।

  • ककोड़ा के 100 ग्राम के पैकेज का दाम (कीमत) 550 रूपए है।
  • कंटोला का यह एक पैकेज या इन से अधिक पैकेज आप को अपने घर तक चाहिए तो आप को मिल जाएगा।
  • ककोड़ा के पैकेज लेने के लिए आप को हमारे इस मोबाईल नंबर पर कॉल करें

हमारा पता : बजरंग सीड्स & फर्टिलाइजर To. पालियाद, Di: बोटाद, Pin: 364720, Ste: गुजरात MO : +91 95124 22327

ककोड़ा को कई लोग खेखसा के नाम से भी जानते है इन में आयुर्वेदिक गुण अधिक मात्रा में मौजूद होते है इस लिए इन का सेवन करने की सलाह डॉक्टर भी देते है। यह कई बीमारी और रोग के इलाज और ठीक होने के लिए रामबाण है। इस लिए इन की मांग बाजार में भी बहुत तगड़ी रहती है। इन के बाजारी भाव कई बार तो 150 से 200 तक रहते है।

ककोड़ा की खेती किसान बड़े स्तर पर कर के अधिक पैदावार प्राप्त कर के बंपर कमाई भी कर शकते है। इन की खेती मध्य जुलाई से लेकर अगस्त महीने तक कर शकते है। इन को छत पर लगाने के लिए आप को ग्रो बैंग में बलुई दोमट मिट्टी भरनी है और सिंचाई हो शके इतनी जगह बाकि रखे पूरा मिट्टी से नहीं भरना है। इस एक ग्रो बैंग में 08 से 10 बीज की बुवाई करनी है।

ककोड़ा के बीज प्राप्त होने के बाद बीज की बुवाई आप ऐसे करें

ककोड़ा के बीज प्राप्त होने के बाद आप को इसी समय इन के बीज की बुवाई करनी है ताकि आप को इन के फल का भाव अधिक मिले। जब बीज प्रपात हो जाये तब आप इन्हे खेत में 5 से 5 फिट की दुरी पर खड्डा खोदे और इन खड्डे की गहराई 1 फिट की रखे इन खड्डे को तैयार कर के इन में सड़ी गोबर की खाद और मिट्टी दोनों को अच्छे से मिला के खड्डे को भर दे बाद में इन एक खड्डे में 4 से 5 बीज की बुवाई करनी है। और बीज की गहराई आप को 1 इंच से 1.5 इंच की रखनी है। क्यों इन के 8 खड्डे में से एक ही नर का पौधा होगा तब अच्छे से प्रागण हो जाता है और उत्पादन अधिक मिलता है।

पर बहुत धुप है गर्मी है तो आप को इन के बीज को आप किसी पेड़ की छायादार जगह पर प्लास्टिक की बैंग में मिट्टी भर के एक बैंग में 3 से 4 बीज की बुवाई करें और इन प्लास्टिक की बैंग में मिट्टी की नमी बनी रहे इस लिए सिंचाई भी करते रहे। जब बीज अंकुरित हो कर पौधे थोड़े बड़े हो जाए तब इन प्लास्टिक की बेग को चपु से काट देना है और खेत में 5 से 5 फिट के खड्डे तैयार कर के इन खड्डे में गोबर की खाद और मिट्टी से भर के इन में यह पौधे की रोपाई कर देनी है।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को ककोड़ा का बीज कहां मिलता है? (Kakoda Ka Beej Kaha Milta Hai) इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। कम लागत में अधिक मुनाफा यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

नमस्कार किसान मित्रो, में Mavji Shekh आपका “iKhedutPutra” ब्लॉग पर तहेदिल से स्वागत करता हूँ। मैं अपने बारे में बताऊ तो मैंने अपना ग्रेजुएशन B.SC Agri में जूनागढ़ गुजरात से पूरा किया है। फ़िलहाल में अपना काम फार्मिंग के साथ साथ एग्रीकल्चर ब्लॉग पर किसानो को हेल्पफुल कंटेंट लिखता हु।

Leave a Comment