किसान सफ़ेद गिडार का नियंत्रण इस 3 तरीके से कर शकते है। जाने पूरी जानकारी

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Rate this post
Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare

सफेद गिडार को ख़त्म कैसे करे (Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare)

हमारे WhatsApp ग्रुप से जुड़ने के लिए 👉🏿 यहां क्लिंक करे

सफ़ेद गिडार (White Grub) का जीवन चक्र

सफेद गिडार को ख़त्म कैसे करे (Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare) : किसान भाई सफ़ेद गिडार ( सफ़ेद गिडार को व्हाइट ग्रब नाम से भी जाना जाता है। ) मई के मध्य में या अच्छी बारिश के बाद शाम के समय 6 बजे से रात 9 बजे तक मिट्टी से निकलता हैं। सफ़ेद गिडार की होलोट्रोचिआ कोनसांगिनी प्रजाति 80 से लेकर 100 दिनों में अपने जीवन काल को पूरा करती है। जबकि होलोट्रोचिआ सिराटा प्रजाति का जीवन काल 140 से लेकर 230 दिन में पूर्ण हो जाता है

किसान भाई खेत में सफ़ेद गिडार का अंडे की अवधि 7-13 दिनों की होती है। और एंड सफेद और गोल आकार में पाए जाते है। लार्वा 60 से 75 दिनों तक रहता है। लार्वा पीले रंग के और अक्षर ‘ष्ट’ के आकार में पाए जाते है। प्यूपा 10 से 15 दिन का जीवनकाल होता है। और वयस्क की बात करे तो एक सफेद ग्रब का वयस्क गहरे भूरे रंग का होता है। जिसकी लंबाई 15 से 20 मिलीमीटर और चौड़ाई 8 से 10 मिलीमीटर होती है।

सफ़ेद गिडार से होने वाले नुकसान

किसान भाई सफ़ेद गिडार का प्रकोप मुख्य रूप से किसानो द्वारा पौधे को कच्ची गोबर की खाद देने से होता जाता है। इसका लार्वा पौधे की जड़ो को बहुत ज्यादा नुकसान पहुंचाता है। जिसके कारण वह पौधा मुर्झा कर कुछ दिनों बाद पौधा मर जाता है। इसका वयस्क रात में मिटटी से बाहर निकलता है और पौधे की पत्तियों और जड़ों को खाता है।

सफेद गिडार को ख़त्म कैसे करे (Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare)

सफ़ेद गिडार का नियंत्रण करना बेहद जरुरी है वे पौधे के जड़ को बहुत नुकशान पहुंचाता है और कुछ ही दिन में पौधा सुख के पूरी तरह से नष्ट हो जाता है। इस लिए किसान को इस सफ़ेद गिडाका नियंत्रण करना बेहद जरूरी है। इन का नियंत्रण किसान तीन तरीके से कर शकते है जो निचे की तरह है।

Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare

( 1 ) सफ़ेद गिडार का नियंत्रण करने का पहेला तरीका

सफ़ेद गिडार कीट का लार्वा जड़ों से आहार ग्रहण कर के पौधों को नुकसान पहुंचाते हैं। जड़ों के क्षतिग्रस्त होने के कारण पौधों को उचित मात्रा में पोषक तत्व नहीं मिल पाता है। जिससे पौधे सूखने लगते हैं और कुछ समय बाद मृत अवस्था में आ जाते हैं। इस कीट से बचने के लिए प्रति एकड़ खेत में 10 से लेकर 12 किलोग्राम कार्बोफ्यूरान 3 से लेकर 4 प्रतिशत सीजी का प्रयोग करें। खड़ी फसल में इस कीट का प्रकोप होने पर प्रति लीटर पानी में 1 से 1.5 मिलीलीटर मोनोक्रोटोफॉस 36 घुलनशील द्रव्य या क्यूनॉलफॉस 25 प्रतिशत मिला कर छिड़काव करें। इस तरह से सफ़ेद गिडार का नियंत्रण हो जाता है।

( 2 ) सफ़ेद गिडार का नियंत्रण करने का दूसरा तरीका

लार्वा का नियंत्रण
किसान भाई खेत में गर्मियों में जुताई करे। पौध रोपण के पूर्व एवं बाद में सड़ी हुई गोबर की खाद का ही प्रयोग करे। जमीन में खाद देते समय खाद के साथ कीटनाशक पावडर का उपयोग करे। और क्लोरोपायरीफॉस 20 ईसी की ड्रेंचिंग मिट्टी पर 1 से 1.5 मिली लीटर पानी में डालकर करे।

वयस्क नियंत्रण
किसान भाई पौधे एवं खेत के आस पास की गंदी भूमि को साफ़ सुथरा रखे। मानसून की पहली बारिश के बाद शाम 6 बजे से रात 9 के बीच एक लाइट ट्रैप प्रति एकड़ रखें। मोनोक्रोटोफॉस 36 एस.एल. 6 मिलीलीटर प्रति लीटर पानी में घोलकर इसका छिड़काव करें। और छिड़काव का समय 4:00 pm से 6:00 pm रखो तो बहुत अच्छा रहता है।

अस्वीकरण
किसान भाई उपरोक्त विषय वस्तु हमारे अपने ज्ञान और अनुभव तथा वी.एन.आर बीही की खेती करने वाले किसानों के अनुभव और ज्ञान के आधार पर प्रस्तुत की है। किसान भाई हम यहा किसी भी रासायनिक फॉर्मूलेशन को प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से बढ़ावा देना नहीं चाहते है। लेकिन रासायनिक उत्पादों की गुणवत्ता की जिम्मेदारी पूर्णत उनके बनाने वाले एवं बेचने वालों की है।

किसानों से निवेदन है कि रासायनिक उत्पादों की जांच अपने स्तर पर निर्माता और विक्रेता से सुनिश्चित करें उसके पश्चात ही उत्पादों को प्रयोग में लाए। किसी भी प्रकार के भ्रम और विरोधाभास की स्थिति में वी.एन.आर नर्सरी की तकनीकी टीम अथवा नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र अथवा कृषि महाविद्यालय अथवा कृषि विश्वविद्यालय अथवा आईसीएआर के अनुसंधान केंद्र से संपर्क करें।

( 3 ) सफ़ेद गिडार का नियंत्रण करने का तीसरा तरीका

रासायनिक उपाय
जो किसान भाई रासायनिक तरीके से सफ़ेद गिडार (व्हाइट ग्रब) को नियंत्रित करना चाहते हो। तो वे किसान इमिडाक्लोप्रिड या क्लोरपाइरीफोस का इस्तेमाल कर सकते हैं।

किसान भाई सफ़ेद गिडार के नियंत्रित करने के लिए क्लोरपाइरीफोस की 410 एमएल मात्रा को 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति 1 एकड़ में छिड़काव करना होगा। वही इमिडाक्लोप्रिड की 70 एमएस मात्रा को 200 लीटर पानी में घोल बनाकर प्रति 1 एकड़ में छिड़काव कर सकते हैं। किसान भाई ईससे सफ़ेद गिडार संपूर्ण नियंत्रण हो जायेगा।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को सफेद गिडार को ख़त्म कैसे करे (Safed Gidar Ko Khatam Kaise Kare) इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

नमस्कार किसान मित्रो, में Mavji Shekh आपका “iKhedutPutra” ब्लॉग पर तहेदिल से स्वागत करता हूँ। मैं अपने बारे में बताऊ तो मैंने अपना ग्रेजुएशन B.SC Agri में जूनागढ़ गुजरात से पूरा किया है। फ़िलहाल में अपना काम फार्मिंग के साथ साथ एग्रीकल्चर ब्लॉग पर किसानो को हेल्पफुल कंटेंट लिखता हु।

Leave a Comment

buttom-ads (1)