धान की फसल में कब और कितनी मात्रा में फर्टिलाइजर डालना है ताकी एक एकड़ से 40 क्विंटल उत्पादन

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Rate this post
Dhaan Ki Fasal Me Khad Kab Dena Chahiye

धान की फसल में खाद कब देना चाहिए (Dhaan Ki Fasal Me Khad Kab Dena Chahiye) : हमारे देश भारत में धान की खेती किसान बड़ी मात्रा में करते है। पर कई किसान को अभी भी पता नहीं है की धान की फसल में कब और कितनी मात्रा में फर्टिलाइजर डोज देना है। ताकि उत्पादन अधिक प्राप्त हो शके और बंपर कमाई हो शके।

धान की साल में भी कई प्रकार के रोग और फंगस अटैक करते है। और कई बार धान की फसल पीली पड़ जाती है। न्यूट्रिशन की कमी हो जाती है। इन सभी कारण से धान की फसल में उत्पादन कम मिलता है और किसान को बहुत नुकशान होता है। जब धान की फसल में अधिक फुटाव नहीं होता है और कल्ले बहुत नहीं निकलते है तब इस प्रकार की समस्या होती है और उत्पादन कम प्राप्त होता है।

आज के इस ikhedutputra.Com के इस आर्टिकल के माध्यम से हम जानेंगे की धान की फसल में खाद कब देना चाहिए (Dhaan Ki Fasal Me Khad Kab Dena Chahiye) और कितनी मात्रा में देना है ताकि धान की फसल में अधिक फुटाव हो शके और कल्ले अधिक निकले, दाने भरावदार और साइनिंग भी अच्छी हो इन सभी बाते के लिए विस्तार से जानकारी प्राप्त करने के लिए आप हमारे साथ इस आर्टिकल के अंत तक बने रहे।

धान की फसल में खाद कब देना चाहिए (Dhaan Ki Fasal Me Khad Kab Dena Chahiye)

बूस्ट देना चाहिए जिसकी वजह से फसल में फुटाव भी अच्छा हो आगे बालियां भी ज्यादा निकले लंबी बालियां निकले दाने का भराव अच्छा हो शाइनिंग अच्छा हो वजन अच्छा हो सब तरीके के लिए आपको फसल में तीन बार आपको फसल को बूस्ट करना है यानी फर्टिलाइजर देना चाहिए। धान की फसल में कई किसान भाई प्लांटेशन के समय फर्टिलाइजर डालते है और कई किसान प्लांटेशन करने के बाद एक हप्ते के बाद फर्टिलाइजर डलते है।

रोपाई के समय कौन से फर्टिलाइजर सबसे बेस्ट होते हैं

धान की रोपाई के समय कई किसान भाई डीएपी फर्टिलाइजर का इस्तेमाल करते है। पर इन का एक एकड़ के हिसाब से मात्रा कितनी रखनी है और इन के साथ और कौन कौन से फर्टिलाइजर डालना है यह जानकारी भी होनी चाहिए। अमोनियम फास्फेट फर्टिलाइजर में 18 प्रतिशत नाट्रोजन और 64 प्रतिशत फास्फोरस होता है।

धान की रोपाई के समय आप को एक एकड़ के हिसाब से डीएपी फर्टिलाइजर 30 से लेकर 50 किलोग्राम तक का लेना है और इन के साथ आप को यूरिया फर्टिलाइजर भी 10 से लेकर 15 किलोग्राम तक का जरूर लेना है। यह यूरिया फर्टिलाइजर डालने की मेन वजा यह है की अगर धान की फसल में नाट्रोजन की कमी आ गई तो किसी प्रकार का पोषक तत्व अपटेड नहीं होगा इस लिए आप को यूरिया फर्टिलाइजर लेना है।

धान की फसल में कई रोग बीमारी का अटैक रहता है और इन सब से बचाव के लिए और रोग प्रतिरोधक शक्ति बैठने के लिए और अधिक फुटाव और दाने का भराव अधिक हो इन का वजन भी बढ़ने के लिए आप को पोटाश भी डालना है। इन के आलावा आप एमओपीएल फर्टिलाइजर जरूर लेना है और इन की मात्रा है एक एकड़ के हिसाब से 20 से 25 किलोग्राम तक की है।

बहुत किसान भाई का कहना है की जहा मिट्टी का पीएच नाप अधिक है वहा कौन सा फर्टिलाइजर काम करता है इन किसान भाई को बता दे की आप एसएसपी फर्टिलाइजर का इस्तेमाल करें। और इन का नाप आप को एक एकड़ के हिसाब से दो बैंग तक करना है। इन में आप को सिंगल सुपर फास्फेट और इन के साथ यूरिया का इस्तेमाल भी जरूर करना है। और इन का नाप एक एकड़ के हिसाब से 30 से 35 किलोग्राम तक का रखे। और पोटाश आप 20 से 25 किलोग्राम तक डालना है।

धान की फसल में इस प्रकार के फर्टिलाइजर का इस्तेमाल कर के आप धान के पौधे का अधिक फुटाव और ज्यादा कल्ले और दाने भरावदार और अच्छी साइनिंग और वजनदार प्राप्त कर शकते है।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को धान की फसल में खाद कब देना चाहिए (Dhaan Ki Fasal Me Khad Kab Dena Chahiye) इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। कम लागत में अधिक मुनाफा यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

नमस्कार किसान मित्रो, में Mavji Shekh आपका “iKhedutPutra” ब्लॉग पर तहेदिल से स्वागत करता हूँ। मैं अपने बारे में बताऊ तो मैंने अपना ग्रेजुएशन B.SC Agri में जूनागढ़ गुजरात से पूरा किया है। फ़िलहाल में अपना काम फार्मिंग के साथ साथ एग्रीकल्चर ब्लॉग पर किसानो को हेल्पफुल कंटेंट लिखता हु।

Leave a Comment