Millet Farming : बाजरा की सबसे अच्छी किस्म जो किसान को देती है सब से ज्यादा उत्पादन।

WhatsApp Group (Join Now) Join Now
Telegram Group (Join Now) Join Now
Rate this post
Millet Farming

Millet Farming : बाजरा (Millet) एक ऐसी फसल है जो आप कम जलवायु में भी बाजरा (Millet) की खेती कर सकते है। बाजरा (Millet) कम बारिस में भी अच्छी खेती कर सकते है। बाजरा (Millet) शुष्क और अर्द्धषुष्क क्षेत्रो मे मुख्य रुप से उगायी जाती है। यह इन क्षेत्रो के लिए दाने और चारे का मुख्य श्रोत माना जाता है। सूखा सहनषील और कम अवधि 2 से 3 महीने की फसल है जो कि लगभग सभी प्रकार की भूमियो मे उगाया जा सकता है। बाजरा (Millet) क्षेत्र और उत्पादन मे एक महत्वपूर्ण फसल है ।जहाँ पर 500 से 600 मि.मी. वर्षा प्रति वर्ष होती है जो कि देश के शुष्क पष्चिम एवं उत्तरी क्षेत्रो के लिए उपयुक्त रहता है।

किसान भाई बाजरा की खेती (Millet Farming) मध्यप्रदेष मे लगभग 2 लाख हेक्टर भूमि मे की जाती है जो मुख्य रुप से मध्यप्रदेष के उत्तरी जिले मे उगायी जाती है। भिण्ड जिले मे बाजरा लगभग 45000 हेक्टेयर भूमि पर उगाया जाता है। बाजरा की खेती (Millet Farming) भारत में मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश, गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान आदि राज्यों में बाजरा की खेती की जाती है।

बाजरा (Millet) के दानो मे, ज्वार से अच्छी गुणवत्ता के पोषक तत्व पाये जाते है। दानो मे 12.4 प्रतिशत नमी, 11.6 प्रतिषत प्रोटीन, 5 प्रतिषत वसा, 76 प्रतिशत कार्बोहाईड्रेटस तथा 2.7 प्रतिशत मिनरल पाये जाते हैं। यह बाजरा (Millet) ठंड के मौसम में सबसे ज्यादा खाया जाता है। बाजरा ठंड के मौसम में शरीर को अच्छा बनता है।

बाजरा की सबसे अच्छी किस्म (Best Variety Of Millet)

किसान भाई आज हम आप को बाजरा (Millet) की सबसे अच्छी किस्म (Best Variety Of Millet) के बारे में बताने वाले है। जो आप को सबसे ज्यादा उत्पादन देने वाली किस्म है। इस किस्म का नाम हाइब्रिड बाजरा-1020 (Hybrid Bajra-1020) है। यह किस्म की खेती भारत में सभी जगह पर होती है। ज्यादा तर मध्य भारत, उत्तर भारत और पश्चिमी भारत में इसकी खेती सबसे ज्यादा होती है।

  • 1 किलोग्राम बाजरा के पैकेज का दाम (कीमत) 450 रूपए है।
  • 1 किलोग्राम बाजरा का कुरियर चार्ज 150 रुपए है।
  • बाजरा का यह एक पैकेज या इन से अधिक पैकेज आप को भारत के किसीभी जगह पर अपने घर तक चाहिए तो आप को मिल जाएगा।
  • बाजरे के पैकेज लेने के लिए आप को हमारे इस मोबाईल नंबर पर कॉल करें


हमारा पता : बजरंग सीड्स & फर्टिलाइजर To. पालियाद, Di: बोटाद, Pin: 364720, Ste: गुजरात MO : +91 95124 22327

हाइब्रिड बाजरा-1020 (Hybrid Bajra-1020)

किसान भाई हाइब्रिड बाजरा-1020 (Hybrid Bajra-1020) रेमिक कंपनी का आता है। यह कंपनी कई साल से बाजार (Millet) में टिकी हुई है। दोस्तों किसान का मन जाता है की रेमिक कंपनी का बाजरा (Millet) सबसे ज्यादा अच्छा माना जाता है। यह बाजरा (Millet) की खेती भारत में गुजरात, राजस्थान, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, आंध्रप्रदेश, तमिलनाडु, कर्णाटक, पच्श्चिम बंगाल और हिमाचल प्रदेश में इसकी खेती होती है।

यह बाजरा शुष्क, अर्ध शुष्क और बारिस वाले विस्तार में इस की खेती होती है। इस की डुंडा की लम्बाई 1 से 1.5 फुट का होता है। बाजरा (Millet) की खेती के लिए मिट्टी की बात करे तो यह सभी मिट्टी में इस की खेती होती है। खास करके काली मिट्टी में बाजरा की खेती सबसे ज्यादा होती है। यह बाजरा (Millet) की खेती के लिए 1 एकड़ में आप को 1.5 से 2 किलोग्राम बीज की जरुरत पड़ेगी। यह बाजरा का उत्पादन 1 एकड़ में 20 से 25 क्विंटल तक उत्पादन मिलता है। अगर किसान भाई आप को यह बीज की जरुरत है तो ऊपर हमारा नंबर है आप कॉल भी कर सकते है और व्हाट्सअप पर आप मेसेज भी कर सकते है।

अन्य भी पढ़े :

आज के इस आर्टिकल में हम ने आप को बाजरा की सबसे अच्छी किस्म (Best Variety Of Millet) इन के बारे में अच्छी जानकारी बताई है। कम लागत में अधिक मुनाफा यह आर्टिकल आप को सेम की खेती के लिए बहुत हेल्फ फूल होगा और यह आर्टिकल आप को पसंद भी आया होगा ऐसी हम उम्मीद रखते है। और इस आर्टिकल को ज्यादा से ज्यादा किसान भाई और अपने मित्रो को शेयर करे।

हमारे इस ब्लॉग ikhedutputra.com पर हर हमेेश किसान को खेती की विविध फसल के उन्नत बीज से लेकर उत्पादन और इन से होने वाली कमाई और मुनाफा तक की सारी बात बताई जाती है। इन के अलावा जो किसान के हित में सरकार की तरफ से चलाई जाने वाली विविध योजना और खेती के नई तौर तरीके के बारे में भी बहुत कुछ जानने को मिलेगा।

इन सब की मदद से किसान खेतीबाड़ी से अच्छी इनकम कर सकता है। इस लिया आप हमारी यह वेबसाईट आईखेडूतपुत्रा को सब्सक्राब करे ताकि आप को अपने मोबाईल में रोजाना नई आर्टिकल की नोटिफिकेशन मिलती रहे। इस आर्टिकल के अंत तक हमारे साथ बने रहने के लिए आप का बहुत बहुत धन्यवाद।

इस लेख को किसान के साथ शेयर करे...

Leave a Comment